तनाव और मधुमेह टाइप वन

Categories


मधुमेह आज महानगरों में ही नहीं बल्कि ग्रामीण क्षेत्रों में भी होने लगा है। मधुमेह जैसी बीमारियां सही जीवनशैली और अच्छा खान-पान ना होने के कारण हो सकती है। मधुमेह और तनाव का गहरा संबंध है। तनाव के कारण मधुमेह पीडि़त कई अन्य बीमारियों का भी शिकार हो सकता है। मधुमेह आमतौर पर गर्भवती महिलाओं और बड़ी उम्र के लोगों में हुआ करता है। लेकिन मधुमेह प्रकार 1 बच्चों में खासतौर पर पनपता दिखाई दे रहा  है। तनाव के कारण मधुमेह पीडि़त व्यक्ति में शर्करा की मात्रा बढ़ जाती है। आइए जानें तनाव और मधुमेह टाइप 1 के बारे में।

  • टाइप 1 मधुमेह में इंसुलिन पर आजीवन निर्भरता बढ़ जाती है। यह बचपन में या किशोरावस्था में ही अधिक होता  है। टाइप 1 मधुमेह में प्रतिरक्षा प्रणाली पाचनग्रंथियां में इन्सुलिन पैदा कर बीटा कोशिकाओं पर हमला कर उन्हें नष्ट कर देती है। इस स्थिति में पाचन ग्रंथिया कम मात्रा में या ना के बराबर इन्सुलिन पैदा करती हैं।
  • आज की भागदौड़ की जिंदगी में हम सिर्फ काम को ही समय दे पाते हैं। ऐसे में खानपान पर भी नियंत्रण नहीं रख पाते। लेकिन आयुर्वेद ने हमेशा ही मधुमेह को शारीरिक से अधिक मानसिक बीमारी माना है। इसी कारण खान पान पर नियंत्रण कर मधुमेह से छुटकारा पाया जा सकता है।
  • भागदौड़ और आगे रहने की होड़ के चलते बढ़ रहे तनाव और मधुमेह से गुर्दा खराब होने का खतरा भी बना रहता है।
  • मधुमेह प्रकार 1 के कारण गुर्दे की पेशाब के साथ प्रोटीन को फिल्टर होने से रोकने की क्षमता कम हो जाती है। लापरवाही बरतने पर गुर्दा नष्ट होने लगता है। गुर्दा खराब होने से मूत्रनली में पथरी, संक्रमण या मूत्र प्रवाह में रुकावट होने का खतरा भी बराबर बना रहता है।
  • वैज्ञानिकों की मानें तो लोग तनाव से बचकर भी मधुमेह प्रकार 1 से छुटाकरा पा सकते हैं, क्योंकि मधुमेह और तनाव का गहरा ताल्लुक है। तनाव से बचने के लिए योग और प्राणायम के साथ किसी भी तरह का मनोरंजन भी कर सकते हैं।
  • तनाव के कारण मधुमेह पीडि़तों में हृदयरोग होने की आशंका बढ़ जाती है। मधुमेह प्रकार 1 की वजह से खून के कण थक्के के रूप में जम जाते हैं। हालांकि आयुर्वेद चिकित्सा के माध्यम से मधुमेह प्रकार 1 पनपने से पहले इसका इलाज संभव है।

टाइप 1 मधुमेह के लक्षण

  • निरन्तर भूख लगना
  • वजन कम होना
  • दृष्टि में धुंधलापन आना
  • ज्यादा मोटापा
  • प्यास और पेशाब का बढ़ना
  • थकान होना
  • तनाव बढ़ना

मधुमेह प्रकार 1 से बचाव

  • तनाव से दूर रहें।
  • तनाव होने पर उसका जितनी जल्दी हो निदान कर लें अन्यथा ये मधुमेह के साथ-साथ और भी कई बीमारियों को ला सकता है।
  • मोटापे से बचें। नमक, मद्यपान व तंबाकू के सेवन से बचें।
  • कम प्रोटीनयुक्त भोजन का सेवन करें।

नाव मुक्त रहकर और कुछ आसान उपाय अपनाकर मधुमेह प्रकार 1 से बचा जा सकता है।


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: